Saturday, 23 July, 2011

बस गम नहीं सहता...

मैं  उन्हें   बेवफा  नहीं  कहता  
जो मेरा हो के साथ  नहीं  बहता  
समझ के देखा है  दिल ने बहुत 
नादाँ नहीं, बस गम नहीं सहता  ||

कहते है, देता है खुदा उसको  सजा   
दिल  जो  किसी  का  है  तोड़  देता 
मगर  छोड़ो  क्यूँ  दोष  दूं  उनको  
मंदिर की मूरतों में भी तो दिल नहीं होता||  

0 comments:

Post a comment