Tuesday, 24 April, 2012

मौसमी रंगमंच : दिल्ली का मौसम

मौसमी रंगमंच : दिल्ली का मौसम 
..........................................................................

आसमां के एक छोटे से हिस्से के नीचे
दिल्ली के मौसमी रंगमंच तक

कुछ छोटे छोटे पंछियों के झुंडों से
लहलहाते पेड़ के पत्तों तक
ठंडी ठंडी हवाओं के एहसास से
मिटटी की खुशबू तक
नीम के पेड़ से, आम के बोर तक
आपके दिल से, किसी के दिल की छोर तक

कभी कभी किसी कोयल के कुहुकने से
सभी पंछियों का एक साथ चहकने तक
पेड़ की सब से उपरी ड़ाल का इतरा के ठुमकने से
आसमान का बादलो से ढक जाने तक

मेरी खिड़की का ये द्रश्य ...आपकी खिड़की पे जाने तक!!

बादल भी हर तरह के, भूरे , काले ,कुछ मटमैले
जैसे खेल रहे हों होली
की एक दुसरे को ढक कर अपने रंग में रंगवाने तक

बारिश की कुछ ज्यादा ही चंचल बूंदे, उतरने को बेताब
जिन की होड़ है धरा को छूने तक

छूती हूई हम सभी के दिल को
तो आओं खोल दे हम घर की खिड़कियाँ
या बात हों कार की खिडकियों तक

छूने दो इन बूंदों को और शामिल हों जाओं
इस मौसमी रंगमंच में सभी की तरह
अपने दिल को इस दिल्ल्ली के मौसम में ....खो जाने तक !!!

छूने दो इन बूंदों को और शामिल हों जाओं
अपने दिल को इस दिल्ल्ली के मौसम
में खो जाने तक!!!

vpn (24 april 12 ) @ charak hostel, VMMC and SJH

0 comments:

Post a comment